UA-145931898-1

Hindi sex kahaniya 24

Comments · 103 Views

Hindi sex kahaniya for free. Hot bhabhi, aunty, girlfriend, incest, jija sali, maid servant chudai stories padh kar apni antarvasna ko shant karen.

टीचर की चूत की प्यास चुदाई करके बुझाई

 
 

 

दोस्तो, मैं अवि आप लोगों को अपनी रियल चुदाई कहानी बताने जा रहा हूँ मेरी उम्र 24 साल है. मैंने इससे पहले कभी चूत नहीं चोदी थी. मैं रिया नाम की एक टीचर से इंग्लिश की क्लास लेता था. उनकी उम्र 30 की थी. वो बहुत ही सेक्सी माल हैं. सच में कोई भी उन्हें सिर्फ एक बार ही देख कर चोदना चाहेगा. मैं भी रिया मेम को चोदने का मौका देख रहा था. असल में मैं उन्हें निहारने ही जाता था, पढ़ना तो एक बहाना था.

 

उनके पति दूसरे शहर में जॉब करते थे, सो वह घर पर अकेले ही रहती थीं.

 

एक दिन क्लास खत्म होने के बाद मैं जब जाने को निकला, तो काफी बारिश होने लगी. मेम ने कहा- कुछ देर इंतजार कर लो अवि… बारिश रुक जाए फिर चले जाना.
मैं रुक गया.
मेम बोलीं- चाय पियोगे?
मैंने कहा- हाँ क्यों नहीं.
तभी उन्हें याद आया कि छत पर कुछ जरूरी सामान पड़ा रह गया है, कहीं बारिश में भीग न जाए. सो वह अपना वो सामान लेने छत पर चली गईं. 

 

कुछ देर में मेम के चीखने की आवाज आई, मैं भागा… और छत पर जाकर देखा कि मेम पूरी भीग चुकी थीं और रो रही थीं. पानी में फिसल जाने से उनके घुटने में मोच आ गई थी, वो उठ नहीं पा रही थीं.

 

मैंने मेम को अपनी गोद में उठा लिया और बिस्तर पर ले आया. साली पानी में भीग कर एकदम गजब माल लग रही थी. मेरा तो उनकी जवानी के टच से बुरा हाल हो गया था. फिर मैं मूव उठा कर लाया… ताकि उनके घुटने की मोच में मूव मल सकूँ. उन्होंने साड़ी पहनी हुई थी.

 

मैंने कहा- मेम क्या मैं मूव लगा दूँ?
तो उन्होंने आँख बंद किए हुए ही कराह कर कहा- हाँ, लगा दो प्लीज़.
मैंने कहा- थोड़ा साड़ी ऊपर कीजिए मेम.

 

वो एकदम से पूरी साड़ी को ऊपर करने लगीं. मुझे साड़ी हटते ही उनकी चूत दिख गई… क्योंकि मेम ने पैंटी नहीं पहनी थी. मेम की चुत देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. मैं उनकी गोरी-गोरी मक्खन सी जांघों पर मालिश करने लगा. मेरे घुटने पर हाथ फेरने से उन्हें कुछ दर्द हुआ तो वो जोर से मुझसे लिपट गईं… जिससे मेरे खड़े लंड ने मेम के पेट पर ठोकर मार दी.

मैं मेम के इस कदम से एकदम से चौंक गया था. तभी वो कण्ट्रोल होकर अलग हुईं… वो भी मेरा लंड का हाल देख चुकी थीं सो वो सकपका गई थीं.

मैं उनके घुटनों को सहलाते हुए ऊपर तक जाने लगा. धीरे-धीरे उनकी चूत को भी छूने लगा. वो कुछ नहीं बोल रही थीं बल्कि आँखें बंद करके मेरी उंगलियों की हरकत का मजा ले रही थीं.

 

मैंने एक बार फिर उनके घुटनों को जोर से दबा दिया, वो चीख कर मुझसे लिपट गईं. इस बार मैंने भी उन्हें अपनी बांहों में जकड़ लिया.
वो सिहर कर बोलीं- क्या कर रहे हो अवि?
मैंने कहा- मेम, क्या मैं आपके पूरे शरीर की मालिश कर सकता हूँ… मुझे एक मौका दे दीजिए प्लीज़!
वो मेरी बांहों में खुद को ढीला छोड़ते हुए बोलीं- ठीक है… लेकिन मैं जैसा कहूँगी वैसा ही करना.
मैंने कहा- ओके मेम.

 

वो बोलीं- तो चल… सबसे पहले मेरी चूत को चाट कर साफ कर चूतिये… जो तूने मेरी चुत को छूकर उसका माल निकाल दिया है.
मैं उनकी रंडियों जैसी भाषा सुन कर समझ गया कि मेम को मुझसे चुदना है. मैं मेम की चूत को चाटने के लिए तैयार था.
मैंने कहा- मेम पहले पूरी नंगी तो हो जाओ.
उसने कहा- साले चूतिये पूछ क्या रहा है… कर दे मुझे नंगी.

 

मैं उन पर टूट पड़ा. मैंने उनका ब्लाउज खींचा और ब्रा को उतार दिया. उनके खड़े चूचों को देख कर मैं पागल हो उठा. मैं मेम का एक मम्मा अपने मुँह में भर कर चूसने लगा, दांतों से काटने लगा.


वो गर्म हो उठीं और बोलीं- पहले चूत की चाटने की बात हुई थी साले… चुत चूस…

 

मैंने उसकी साड़ी फिर पेटीकोट उतार दिया. उफ्फ साली की गुलाबी चूत से भलभला कर रस टपक रहा था. मैं अपना मुँह लगा कर मेम की चूत चाटने में लग गया. मेम की चुत में मैं अपनी जीभ नुकीली करके अन्दर तक घुसाने लगा.
मेम चुत पसारते हुए कामुक सिसकारी लेने लगीं- अआह ओह्ह्ह मेरे चोदू राजा… चूस ले मेरी चूत को… अह… खा जा साले मेरी चूत को… मैं कई दिनों से प्यासी हूँ.
मैंने कहा- मेम आपकी चूत का रस बहुत स्वादिष्ट है.
वो बोलीं- बहनचोद, मेम क्यों बोलता है… अभी मैं तेरी रंडी हूँ मादरचोद… जितना गन्दा से गन्दा बोल सकता है… बोल हरामी…

 

मेरी तो समझो निकल पड़ी थी. मैंने अपने कपड़े उतार दिए. मेरा 7 इंच का लंड देख कर वो भी लंड पर झपट पड़ीं और लंड को झट से अपने मुँह में ले लिया.

 

मैंने भी जोश में आकर उनकी एक चूची को हाथ से बेदर्दी से मसलने लगा और बोला- बहन की लौड़ी मेरी रंडी… चूत की रानी… चुदक्कड़ चुदवाएगी न मुझसे… बोल कुतिया…
वो बोलीं- अरे मेरे मस्त चोदू… तेरी रंडी तैयार है… घुसा लंड भोसड़ी के… मेरे लंड के राजा…

 

मैं मेम की चूची को दांत से काटने लगा और बोला- बोल कैसे चुदेगी रंडी?
वो बोलीं- कुतिया की तरह चोद मादरचोद…
मैं बोला- पहले मैं तेरी चूत का रसपान करूँगा.
मेम ने चित्त लेटते हुए चुत खोल दी और बोली- ले आ जा मादरचोद चाट ले मेरी चुत का रस…

  

मैं मेम की चूत में उंगली डालने लगा, फिर जीभ डालने लगा. मेम टांगें उठा कर सिसकारी लेने लगीं ‘उफ़्फ़ उफ्फग्ग मर्रर्रर्रर्र गईईईई रे… चोद नाआ… आआह… मेरे राजजाआ मेरा भोसड़ा फाड़ दे…’
कुछ ही देर में मेम झड़ गईं और मैंने उनकी चुत का सारा माल पी लिया.

  

इसके कुछ देर तक हम दोनों ने फ़ोरप्ले किया और अब मैंने उनकी चूत में अपना लंड लगा दिया. मेरा लंड घप से मेम की चुत में चला गया. उनके मुँह से हल्की सी आह… निकली और उन्होंने लंड का मजा लेना शुरू कर दिया.
मैं धीरे-धीरे मेम की चुत में लंड को ऊपर-नीचे करने लगा. मेम को चोदते हुए मैं कहने लगा- आह… साली रंडी… ओह… चुद्क्कड़… आह मेरी चूत वाली कुतिया…
वो बोल रही थी- हाँ हाँ राजा चोद दे मुझे… चोद दे फाड़ दे मेरी बुर को… समां जा मेरी बुर में मादरचोद… मैं भी तेरे लौड़े को खा जाउंगी उफ्फ… चोद न…हरामी…

 


 

तक़रीबन दस मिनट में वो अचानक जोर से ऐंठने लगीं और चीखने लगीं- ऊउह… जल्दी चोद चोद… अब मैं आने वाली हूँ… अह्ह्ह्ह्ह हुँन्नन्न रे लंड बस…बस्स रुक जा रे…
तभी मैं भी निकल चुका था.
तूफ़ान रुकने के बाद वो बोलीं- चल साले मेरी चूत चाट कर साफ कर… मैं तेरा लंड साफ करती हूँ.

 


हमने 69 में होकर वैसा ही किया. उस दिन हम दोनों ने तीन बार चुदाई की. अब तो हम दोनों रोज चुदाई करते हैं.

मेरी इस चुदाई की रियल कहानी में मजा आया या नहीं, टिप्पणी जरूर कीजिएगा.

Comments